Sponsor

1 2021 से लागू होंगे सोने के गहनों के नए नियम: क्या होगा आपके पुराने गहनों का? जानिए सभी सवालों के जवाब

 

Gold Hallmarking Rule: क्या आप भी यहीं सोच रहे हैं कि गोल्ड हॉलमार्किंग नियमों के बाद पुरानी ज्वेलरी क्या होगा? इस समस्या के समाधान के लिए हमने एक्सपर्ट्स से इस पूरे मामले पर जानकारी हासिल की है. आइए जानें....


देश में बिकने वाले हर एक गहने पर अब हॉलमार्किंग करना जरुरी हो गया है. यह निमय 1 जून 2021 से पूरे देश में लागू हो जाएगा. केंद्र सरकार ने जनवरी 2020 में कहा था कि सोने के गहनों पर अनिवार्य हॉलमार्किंग 15 जनवरी 2021 से लागू होगी, लेकिन कोरोना महामारी के चलते जुलाई महीने में सरकार ने इसकी तारीख को बढ़ाकर 1  सितंबर  2021 कर दिया. गोल्ड हॉलमार्किंग शुद्धता का प्रमाण माना जाता है और फिलहाल यह स्वैच्छिक है.

पिछले कुछ दिनों से लोग लगातार पूछ रहे है कि नए नियम आने के बाद मेरे पुराने गहनों का क्‍या होगा? क्‍या उनके दाम गिर जाएंगे? क्या कोई भी उन्‍हेंं अब खरीदेगा नहीं? यहीं सवालों हमने कमोडिटी एक्सपर्ट्स से पूछें तो उन्होंने विस्तार से इसकी जानकारी दी है.

(1) सवाल: सबसे पहले जानते हैं 1 जून से गहनों को लेकर क्या बदलने वाला है?

जवाब: कमोडिटी एक्सपर्ट्स का कहना है कि सरकार ने एक जून से सोने के गहनों की हॉलमार्किंग (Hallmarking) को जरूरी कर दिया है. इसका मतलब साफ है कि देश में बिकने वाले सभी गहने पर हॉलमार्क का निशान लगा होना जरूरी है.हॉलमार्किंग सोने-चांदी और प्लेटिनम की शुद्धता को प्रमाणित करने का एक जरिए होती है. अगर आसान शब्दों में कहें तो यह भरोसा दिलाता है कि आपकी ज्वेलरी में लगा सोना कितना शुद्ध है.

मौजूदा समय में सिर्फ सोना और चांदी ही हॉलमार्किंग के दायरे में आता है. पूरे देश में मौजूद हॉलमार्किंग केंद्रों पर हॉलमार्किंग की जाती है. इसकी निगरानी भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) द्वारा होती है. ​अगर गहनों पर हॉलमार्क है तो इसका मतलब है कि उसकी शुद्धता सही है.

हमारे देश में सोने, चांदी के गहनों की प्रमाणिकता के लिए बीआईएस हॉलमार्क प्रणाली का उपयोग किया जाता है. बीआईएस का चिन्ह प्रमाणित करता है कि गहना भारतीय मानक ब्यूरो के स्टैंडर्ड पर खरा उतरता है.बीआईएस भारत सरकार के उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के अंतर्गत आता है. बीआईएस हॉलमार्किंग सिस्टम अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के साथ जोड़ा गया है. इस प्रोसेस के तहत बीआईएस द्वारा ज्वेलर्स को रजिस्ट्रेशन प्रदान किया जाता है जिसके बाद ज्वेलर्स किसी भी बीआईएस से मान्यता प्राप्त हॉलमार्किंग सेंटर से गहनों को हॉलमार्क करा सकते हैं.


(2) सवाल: अब कौन -कौन से गहनों की हॉलमार्किंग होगी?

जवाब: एक्सपर्ट्स का कहना है कि ज्वेलर्स को सिर्फ 14, 18 और 22 कैरेट सोने के गहनों को बेचने की अनुमति होगी. उम्‍मीद है इस कदम से गोल्‍ड मार्केट में पारदर्शिता बढ़ जाएगी.


(3) सवाल: मेरे सोने के पुराने गहनों का अब क्या होगा?

जवाब: कमोडिटी एक्सपर्ट्स का कहना है कि  पुराने गहनों को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है. केडिया कमोडिटी के एमडी अजय केडिया ने  कि पुराने गहनों पर भी हॉलमार्किंग कराई जा सकती है. किसी भी हॉलमार्क सेंटर पर जाकर गहनों पर हॉलमार्किंग कराई जा सकती है. इसका शुल्‍क भी अधिक नहीं होता है.

(4) सवाल: अगर हॉलमार्किंग नहीं कराई तो क्या होगा?

जवाब: एक्सपर्ट्स बताते हैं कि हॉलमार्किंग नहीं कराने पर गहनों को बेचने में परेशानी हो सकती है. ज्वेलर आपके गहनों के सही दाम नहीं लगाएगा. ऐसे में आपको नुकसान होने की आशंका बनी रहेगी.

(5) सवाल: कैसे होती है हॉलमार्किंग

जवाब: ज्वैलरी पर बीआईएस का तिकोना निशान, हॉलमार्किंग केंद्र का लोगो, सोने की शुद्धता लिखी होगी. साथ ही ज्वेलरी कब बनाई गई, इसका साल और ज्वेलर का लोगो भी रहेगा.

(5) सवाल: ज्वेलर की गड़बड़ी करने पर क्या होगा?

जवाब: जानकारों का कहना है कि एक जून से लागू होने वाले नियम का सख्‍ती से पालन करना होगा. अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो एक लाख रुपये से लेकर माल के मूल्‍य के पांच गुना तक का जुर्माना लगाया जा सकता है तथा एक साल की कैद भी हो सकती है.

(6)सवाल: क्या इससे जुड़ा कोई ऐप भी है?

जवाब: सरकार ने ‘BIS-Care app’ के नाम ऐप भी लॉन्च की है. इसके जरिए ग्राहक सोने की शुद्धता की जांच कर सकते हैं. इस ऐप (App) के जरिए सिर्फ सोने की शुद्धता की जांच ही नहीं बल्कि इससे जुड़ी कोई भी शिकायत भी कर सकते हैं.

इस ऐप (App) में अगर सामान का लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन और हॉलमार्क नंबर गलत पाया जाता है तो ग्राहक इसकी शिकायत तुरंत कर सकते हैं. इसे आप Googel Play Store से डाउनलोड कर सकते हैं.

इसे डाउनलोड होने के बाद रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू होगी. अपना नाम, मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी डालें
अपना मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी OTP के जरिए वेरिफाई करना होगा. इसके बाद आप इस ऐप को इस्तेमाल करने के लिए तैयार हैं.

जब आप ऐप (App) खोलेंगे तो कई ऑप्शन के साथ एक ऑप्शन Verify Hallmark भी होगा.Verify Hallmark पर क्लिक करेंगे तो आपको हॉलमार्क नंबर डालने पर आपको पता चल जाएगा कि सोने की शुद्धता क्या है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ